Breaking

Tuesday, June 11, 2019

साल में 10 लाख कैश निकालने पर देना पड़ सकता है टैक्स, मोदी सरकार ने किया ऐलान

अगर आप एक साल में 10 लाख से ज्यादा रूपये बैंक से कैश निकालते हैं तो अब आपको उसका टैक्स देना पड़ सकता है| CNBC आवाज़ के मुताबिक मोदी सरकार एक साल में 10 लाख रुपये से ज्यादा कैश निकालने वालों पर टैक्स लगाने पर विचार कर रही है| इसके पीछे सरकार का उद्देश्य फिजिकल करेंसी यानी पेपर नोट के इस्तेमाल को कम करना है साथ ही, ब्लैकमनी पर भी लगाम लगाना है| इस कदम से देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा मिलेगा|

Amazon के FabPhoneFest में आपको रेड्मी के स्मार्टफोन पर मिलगा बेहतर डिस्काउंट

हालांकि, सरकार अभी तक इस पर विचार ही कर रही है| सरकार लगातार कहती आई है कि वो ऐसा कुछ नहीं करना चाहती है कि नियमों का पालन मिडिल क्लास और गरीबों के लिए बोझ बन जाए| आपको बता दें कि यूपीए सरकार ने भी 10 साल पहले बैंक कैश लेनदेन टैक्स को पेश किया था| लेकिन कुछ साल बाद विरोध के कारण सरकार को उसे वापस लेना पड़ा था|
आधार को अनिवार्य करने पर विचार


मोदी सरकार कैश निकालने पर आधार को अनिवार्य करने पर भी विचार कर रही है| अगर ऐसा होता है तो कैश में बड़े लेन-देन करने वाले की पहचान करना आसान हो जाएगा और कैश लेन-देन का इनकम टैक्स रिटर्न में भी मिलान करना आसान होगा| बता दें कि फिलहाल 50 हजार से अधिक नकद जमा कराने पर पैन दिया जाता है| वैसे इस बारे में अभीर चर्चा बजट से पहले ही हो रही है जिससे इसे 5 जुलाई को बजट में पेश किया जा सके|

No comments:

Post a Comment