Monday, May 25, 2020

PM Kisan योजना में एक गलती के वजह से रुका 4200 करोड़ रुपये, जानिए डिटेल

आपको तो पता ही होगा कि एक गलती के वजह से क्या कुछ नहीं बदल जाता है| ऐसा ही एक स्पेलिंग मिस्टेक Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme में हुआ है| कागजों में हुई इस गड़बड़ी से किसानों को करीब 4200 करोड़ रुपये की सहायता का नुकसान हो गया है. जब तक यह गलती ठीक नहीं होगी तब तक अब इतनी बड़ी संख्या में किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) का पैसा नहीं मिल पाएगा|
Pm-Kisan में कहाँ हुई गलती

पीएम किसान स्कीम के आवेदनकर्ताओं के नाम और बैंक अकाउंट नंबर में गड़बड़ी है| बैंक अकाउंट और अन्य कागजातों में नाम की स्पेलिंग भिन्न है, जिसकी वजह से स्कीम का ऑटोमेटिक सिस्टम उसे पास नहीं करता| पीएम किसान स्कीम के सीईओ विवेक अग्रवाल का कहना है कि ऐसी गड़बड़ी करने वाले आवेदक किसानों की संख्या करीब 70 लाख है जबकि करीब 60 लाख लोगों के आधार (Aadhaar card) में गड़बड़ी है|
वेरीफिकशन के लिए पेंडिंग हैं सवा करोड़ केस

मतलब स्कीम के पैसे के लिए अप्लाई करने के बावजूद देश भर के करीब 1.3 करोड़ किसान सालाना 6000 रुपये के लाभ से वंचित हैं| कई जिले ऐसे हैं जहां पर सवा-सवा लाख किसानों का डेटा वेरीफिकेशन के लिए पेंडिंग है| जब राज्य सरकार किसान के डाटा को वेरीफाई करके केंद्र को भेजती है तब जाकर किसान को पैसा मिलता है| पीएम किसान स्कीम के का बजट 75 हजार करोड़ रुपये का है|

मोदी सरकार सालाना 14.5 करोड़ लोगों को पैसा देना चाहती है लेकिन लाभ अभी 9.68 करोड़ किसानों को ही मिल सका है| इसके कुल जबकि स्कीम शुरू हुए 17 माह बीत चुके हैं| ज्यादा से ज्यादा किसान रजिस्ट्रेशन करवाएं इसके लिए पीएम किसान स्कीम में खुद रजिस्ट्रेशन करने की सुविधा दे दी गई है|
कैसे ठीक होगी गलती?
  • इसके लिए सबसे पहले PM-Kisan Scheme की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं| इसके फार्मर कॉर्नर के अंदर जाकर Edit Aadhaar Details ऑप्शन पर क्लिक करें|
  • अब आपको यहां पर अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा| इसके बाद एक कैप्चा कोड डालकर सबमिट करें|
  • अगर आपका केवल नाम गलत होता है यानी कि अप्लीकेशन और आधार में जो आपका नाम है दोनों अलग-अलग है तो आप इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं| अगर कोई और गलती है तो इसे आप अपने लेखपाल और कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क करें|

No comments:

Post a Comment