Showing posts with label google. Show all posts
Showing posts with label google. Show all posts

Wednesday, July 24, 2019

सड़कों पर घूम कर यूजर्स के फेस डेटा को कलेक्ट कर रही गूगल, बदले में देते हैं 340 रु. का गिफ्ट कार्ड

गूगल अपनी पिक्सल सीरीज के अगले डिवाइस Pixel 4 में अपने नेक्स्ट जनरेशन फेशियल रिकॉग्नाइजेशन टेक्नोलॉजी टेस्ट कर रहा है| न्यूयॉर्क की सड़कों पर गूगल के कर्मचारी यूजर्स से उनके फेस डेटा कलेक्ट कर रही है और इसके बदले में गूगल उन्हें 340 रुपए का गिफ्ट कार्ड दे रही है| कंपनी न्यूयॉर्क के अलावा कई शहरों में इसी तरह से डेटा कलेक्ट कर रही है| रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी यह पिक्सल 4 के फेस अनलॉकिंग फीचर को और बेहतर बनाने के लिए कर रही है|

रिपोर्ट के मुताबिक गूगल के कर्मचारियों की कई टीमों को लोगों के फेस डेटा देने के लिए अनुरोध करते देखा गया| कंपनी ने यह नया तरीका अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन गूगल पिक्सल 4 के फेस अनलॉक फीचर को और बेहतर बनाने के लिए निकाला है| गूगल कर्मचारी सड़कों पर घूम रहे लोगों तक पहुंच कर सबसे पहले उनकी परमिशन लेते हैं, जिसमें उन्हें कहा जाता है वे यह अपने नेक्स्ट जनरेशन फेशियल अनलॉकिंग फीचर को बेहतर बनाने के लिए आपका फेस डाटा चाहिए| यूजर्स के हां कहने पर एक बड़े से बॉक्स में छिपे फोन से उनका फोटो लिया जाता है| रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि इस बॉक्स में पिक्सल 4 स्मार्टफोन है|

यूजर की परमिशन मिलने पर छिपे हुए फोन के सेल्फी मोड से अलग-अलग एंगल में फेस डेटा कलेक्ट करते हैं| इसे काम को करने में लगभग 5 मिनट का समय लग जाता है| इसके बदले में गूगल के कर्मचारी यूजर को अमेजन या स्टारबक्स का 340 रुपए का गिफ्ट कार्ड देते हैं| गूगल के एक कर्मचारी ने बताया कि कई शहरों में इसी तरह के डेटा कलेक्शन का काम किया जा रहा है| इसके बदले में यूजर के फार्म पर साइन भी कराया जाता है| इसका मतलब यह है कि अब इस फेस डेटा पर अब गूगल का अधिकार है|

Saturday, July 20, 2019

पोर्न फिल्में देखने वालों सावधान ! गूगल और फेसबुक चुपके से आप पर रखता है नज़र

अगर आप पोर्न फिल्में देखने के शौक़ीन हैं तो आपको यह आदत बदलनी होगी| वैसे अगर आप 'इंकॉग्निटो मोड' का भी इस्तेमाल कर पोर्नोग्राफी फिल्में देखते हैं और आपको लगता है कि ऐसे में किसी को पता नहीं चलेगा तो आप शायद गलत सोच रहे हैं| बता दें कि गूगल, फेसबुक और ओरेकल क्लाउड भी आप पर चुपके से नजर बनाए रखते हैं| लैपटॉप या स्मार्टफोन पर 'इंकॉग्निटो मोड' पर स्विच करने पर भी आपके जरिए देखी जाने वाली पोर्न पर गुप्त रूप से नजर रखी जाती है|

माइक्रोसॉफ्ट, कानेर्गी मेलन विश्वविद्यालय और पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के एक नए संयुक्त अध्ययन में यह बात सामने आई है| जांच में पता चला कि 93 प्रतिशत वेब पेज ऐसे हैं, जो यूजर्स के डेटा को थर्ड पार्टी संगठनों के लिए ट्रैक और लीक करते हैं| इसके लिए 'वेबएक्सरे' नामक एक उपकरण का उपयोग करके 22,484 सेक्स वेबसाइटों को चेक किया| नमूने में यूजर्स को ट्रैक करने वाली 230 विभिन्न कंपनियों और सेवाओं की पहचान करने वाले शोधकर्ताओं ने कहा कि इन साइटों पर हो रही ट्रैकिंग कुछ प्रमुख कंपनियों के जरिए केंद्रित है|


गैर-पोर्नोग्राफी-विशिष्ट सेवाओं में से गूगल 74 प्रतिशत साइटों को ट्रैक करता है, ओरेकल 24 प्रतिशत और फेसबुक 10 प्रतशित साइटों को ट्रैक करता है| पोर्नोग्राफी-विशिष्ट ट्रैकरों में ईएक्सओ क्लिक (40 प्रतिशत), जूसीएड (11 प्रतिशत) और इरो एडवरटाइजिंग (9 प्रतिशत) आदि शामिल है| रिपोर्ट में बताया गया कि गैर-पोर्नोग्राफी की टॉप 10 कंपनियां अमेरिका में हैं, जबकि पोर्नोग्राफी-विशिष्ट की अधिकतर कंपनियां यूरोप में हैं|

शोधकर्ताओं ने कहा कि 'इंकॉग्निटो मोड' केवल यह सुनिश्चित करता है कि उसकी ब्राउजिंग हिस्ट्री में सेव नही न हो| लेकिन उससे संबंधित ऑनलाइन कामों को थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स देख और रिकॉर्ड कर सकते हैं| रिपोर्ट के मुताबिक ये थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स उन साइटों के यूआरएल की मदद से उसकी यौन इच्छाओं का भी अनुमान लगा सकते हैं||

Wednesday, June 5, 2019

गूगल मैप का यह 3 लेटेस्ट अपडेट आपके बहुत आएगा काम, मिलेगा रिक्शा स्टैंड की जानकारी

सर्च इंजन कंपनी गूगल ने अपने हो प्लेटफार्म गूगल मैप में तिन नए अपडेट जारी किया है, जो गूगल मैप यूजर्स के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा| बता दें कि इस नए फीचर में बस से यात्रा करने का औसत समय, ट्रेन का लाइव स्टेटस और नजदीकी ऑटो रिक्शा स्टैंड के बारे में सटीक जानकारी यूजर्स को देगा| वैसे फिलहाल ये सुविधा भारत के 10 बड़े शहरों बेंगलुरू, चेन्नई, कोयंबटूर, दिल्ली, हैदराबाद, लखनऊ, मुंबई, मैसूर, पुणे और सूरत में ही लागू है| चलिए अब इन तीनों नए अपडेट के बारे में जानते हैं|
रियल टाइम बस ट्रैवल इंफॉर्मेशन

गूगल मैप में जुड़े इस नए फीचर से यूजर यह पता लगा सकते हैं कि पब्लिक बस से यात्रा करने के दौरान अपने स्थान तक पहुंचने में औसत कितना समय लगेगा| ऐप इसके लिए रास्ते में मौजूद ट्रैफिक स्टेट्स को ट्रैक करेगा| देर होने कि स्थिति में यूजर को रेड टेक्स्ट में अलर्ट मिलेगा, जो यह बताएगा कि रास्ते में ट्रैफिक होने से वास्तविक समय से कितना समय ज्यादा लगेगा| अगर कोई देर नहीं लगेगी तो यूजर को ग्रीन टेक्स्ट में अलर्ट करेगा|
मिक्स्ड मोड नेविगेशन विथ ऑटो रिक्शा रिकमन्डेशन

यह फीचर उन लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जो सफर के दौरान रोजाना बस से ऑटो या मेट्रो से ऑटो में स्विच करते हैं| यह यूजर को बताएगा कि वे ऑटो रिक्शा कहां से ले सकते हैं या मेट्रो, बस और लोकल ट्रेन से उतरने के बाद कौन सा स्टेशन या स्टॉप ऑटो रिक्शा लेने के लिए सही रहेगा| गूगल मैप में यह भी पता चलेगा कि एक जगह से दूसरी जगह तक जाने में ऑटो रिक्शा का कितना किराया और यात्रा में कितना समय लगेगा| मिक्स्ड मोड नेविगेशन की सुविधा शुरुआती तौर पर सिर्फ बेंगलुरु और दिल्ली के यूजर्स को मिलेगी, जिसके बाद इसे अन्य शहरों तक पहुंचाया जाएगा|
लाइव ट्रेन स्टेटस

खासतौर पर भारत के लिए बनाए गए इन फीचर्स में ट्रेन का लाइव स्टेटस देखा जा सकेगा और यह भी पता लगाया जा सकेगा कि वह अपने वास्तविक समय से कितनी लेट है| कंपनी के अनुसार इसे 'व्हेयर इज माय ट्रेन' के साथ मिलकर डेवलप किया गया है, जिसका अधिग्रहण गूगल द्वारा पिछले साल किया गया था|

Monday, June 3, 2019

गूगल के सर्वर से ऐसे डिलीट करें सर्च किये गए डाटा

दोस्तों, आज के समय में हम हमेशा ऑनलाइन इंटरनेट से जुड़े हुए रहते हैं और हम इंटरनेट में गूगल अपनी मर्जी के अनुसार सर्च करते हैं| लेकिन एक बात का हमेशा डर रहता है कि कही आप जिस भी चीज को सर्च कर रहे हैं वह कोई देख तो नहीं रहा है| वैसे कोई देखे या न देखे गूगल को यह पता हो जाता है कि आप क्या सर्च कर रहे हैं और वह डाटा आपके ब्राउज़र में ही सेव हो जाता है|

टेक विडियो देखने के लिए 'Tricky Onkar' Youtube चैनल को सब्सक्राइब करें|

आप जो कुछ भी गूगल पर या ऐप्स पर सर्च करेंगे वह डाटा सेव हो जाता है| हाल ही में गूगल ने डेटा को तय समय सीमा के बाद डिलीट करने की सुविधा दी है| अगर आप नहीं चाहते कि आपका डेटा गूगल के सर्वर पर हमेशा रखा रहे तो इसे अब आसानी से डिलीट भी किया जा सकता है|
गूगल से कैसे डिलीट करें अपना डाटा



  • इसके लिए आप सबसे पहले गूगल अकाउंट पेज myaccount.google.com पर जाएं|
  • अब यहां लेफ्ट साइडबार पर 'डेटा एंड पर्सनलाइजेशन' पर क्लिक करें या प्राइवेसी एंड पर्सनलाइजेशन कार्ड पर 'मैनेज यॉर डेटा एंड पर्सनलाइजेशन' पर क्लिक करें|
  • एक्टिविटी कंट्रोल्स बॉक्स में 'वेब एंड ऐप एक्टिविटी' पर क्लिक करें|
  • अब आप फिर से 'मैनेज एक्टिविटी' पर क्लिक करें|
  • अब 'चूज टू डिलीट आटोमेटिक' पर क्लिक करें|
  • अब आपको तिन आप्शन दिखेगा, पहला मैन्युअल डिलीट, दूसरा 18 महीने का डिलीट और तीसरा 3 महीने का डिलीट का आप्शन दिखेगा, जिसे आप अपने हिसाब से सेलेक्ट कर सकते हैं|
  • मान लिया जाये आप तिन महीने की डाटा को डिलीट करना चाहते हैं तो उसपर क्लिक कर आगे बढ़ जाएँ
  • अब यहां आपको कन्फर्म का आप्शन दिखेगा तो आप कन्फर्म करके डिलीट आसानी से कर सकते हैं|

Saturday, March 2, 2019

ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन को 'Ok Google' बोल कर अनलॉक नहीं कर पाएंगे अनलॉक


अब आप अपने ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन को 'Ok Google' बोल कर अनलॉक नहीं कर पाएंगे| Google ने फैसला लिया है कि वह अपने गूगल ऐप से इस फीचर को हटा देगा| गूगल का मानना है कि इस फीचर को हटाने से गूगल ऐप पहले से ज्यादा सुरक्षित हो जाएगा| गूगल का वॉइस मैच अनलॉक फीचर अब केवल लॉक स्क्रीन पर असिस्टेंट इंटरफेस लॉन्च करने के ही काम आएगा| इससे पहले यूजर्स वॉइस मैच फीचर से यूजर्स अपने डिवाइस को लॉक अनलॉक भी कर सकते थे|
टेक विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|
Moto Z और Pixel XL में गूगल के नए अपडेट 9.27 के आने के साथ ही इस फीचर को रिमूव कर दिया गया है| रिपोर्ट के मुताबिक गूगल जल्द ही 9.31 अपडेट जारी करने वाला है और इसके साथ ही दूसरे डिवाइसेज पर से वॉइस अनलॉकिंग फीचर को हटा दिया जाएगा| पहले 'ओके गूगल' कमांड देने पर यह डिवाइस की स्क्रीन को उसी ऐप पर अनलॉक करता था जिस ऐप के लिए कमांड दिया गया था| हालांकि अब ऐसा नहीं होगा|
टेक विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|
गूगल द्वारा जो नया अपडेट आया है उसके मुताबिक अब यूजर्स को इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए पहले फोन को मैन्युअली अनलॉक करना होगा| फोन अनलॉक रहने पर यूजर्स वॉइस कमांड देकर फोन को ऑपरेट कर सकते हैं| गूगल ने Pixel 3 और Pixel 3XL स्मार्टफोन लॉन्च करने से पहले इस फीचर को हटाने का फैसला कर लिया था|

Friday, February 8, 2019

Google ने Gmail में पेश किया यह 3 नए बेस्ट फीचर, बदल जायेगा Email भेजने का अंदाज़

Google ने जीमेल में तीन नये फीचर्स जोड़े हैं और यूजर्स अब इसका इस्तेमाल भी कर सकते हैं| गूगल के इन तीन नये फीचर्स से यूजर्स के लिए ई-मेल भेजने और रिसीव करने का तरीका बेहतर और आसान होनेवाला है| गूगल ने जीमेल में इन तीन नये फीचर्स को रॉलआउट करना शुरू कर दिया है| अगर आपके इनबॉक्स में ये फीचर्स नहीं आये हैं, तो आपको थोड़ा इंतजार करना होगा| Gmail में आये ये 3 फीचर्स क्या हैं और ये कैसे काम करते हैं, चलिए जानते हैं|
Undo और Redo

Gmail में यह फीचर आने से यूजर्स को काफी सहूलियत होगी| Undo फीचर की मदद से आप गलती से डिलीट हुए कंटेंट को फिर से रीस्टोर कर सकते हैं| Undo फीचर के साथ यूजर्स के लिए Redo फीचर की जरूरत को देखते हुए गूगल ने जीमेल में मेसेज को Redo करने का विकल्प भी पेश कर दिया है|

Strikethrough

यह बटन उनके लिए ज्यादा मददगार है जिन्हें कीबोर्ड शॉर्टकट्स की बजाय माउस का इस्तेमाल करने में ज्यादा आसानी होती है| गूगल कहता है कि स्ट्राइकथ्रू बटन यह दिखाता है कि टास्क पूरा हो चुका है और उसके हिसाब से एडिट करने के भी सुझाव देता है. इसे लेकर गूगल ने बताया है कि यह नया फंक्शन लोगों को आसानी से ईमेल लिखने में मदद करेगा|
Download as .EML

गूगल ने EML फॉर्मेट में मैसेजेस को भी डाउनलोड करने का ऑप्शन जोड़ा है| इसके जरिये यूजर्स मल्टीमीडिया फाइल्स को ऑफलाइन यूज के लिए डाउनलोड कर सकते हैं| यह फॉर्मैट अन्य ईमेल क्लाइंट के द्वारा रेकग्नाइज किया जा सकता है|

यहां मिलेंगे नये ऑप्शंस :- नये कंपोज फॉर्मैटिंग के लिए जीमेल के कंपोज विंडो में जाकर फॉर्मैटिंग मेन्यु पर क्लिक करें. यहां आपको रीडू/अनडू के ऑप्शन के साथ ही स्ट्राइकथ्रू का ऑप्शन दिखेगा.

Tuesday, January 15, 2019

गूगल ने कैंपस प्लेसमेंट में एमबीए छात्र को दिया 40 लाख सैलरी का ऑफर

गूगल ने गुरुग्राम के एक एमबीए छात्र को कैंपस प्लेसमेंट में 40 लाख रुपये सालाना पैकेज का ऑफर दिया है| देश के टॉप प्रबंधन संस्थानों में से एक मैनेजमेंट डेवलपमेंट (एमडीआई) में विश्व की 106 नामी कंपनियों ने 345 छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के जरिए नौकरी का ऑफर दिया है|
औसतन 20 लाख की सैलरी

इस संस्थान के 345 छात्रों को औसतन 20 लाख की सैलरी का ऑफर किया गया है| पिछले साल औसतन सैलरी 19.17 लाख रुपये थी| ढाई दिन चले कैंपस प्लेसमेंट में छात्रों को ऑफर दिए गए हैं|
इन कंपनियों ने चुने सबसे ज्यादा छात्र

सबसे ज्यादा 16 छात्रों को डेलॉयट यूएसआई ने ऑफर दिया है| इसके बाद जेपी मॉर्गन चेज ने 15, केपीएमजी व ओयो रूम ने 12 और एयरटेल, अमेरिकन एक्सप्रेस व बेन कैपेबिलिटी सेंटर ने 11 छात्रों को प्लेसमेंट दिया है|
2018 में 330 छात्रों को मिला था प्लेसमेंट

एमडीआई में प्लेसमेंट के डीन कंवल कपिल ने बताया कि 2018 में 119 कंपनियों ने 330 छात्रों को अपने यहां नौकरी पर रखा था| इंवेस्टमेंट बैंकिंग कंपनियां जैसे कि एवेंडस, बीएनपी पारिबस, गोल्डमैन सैचस, जेपी मॉर्गन एंड चेज, नोमुरा आदि ने विभिन्न विभागों के लिए यह नियुक्तियां की हैं|
इस साल आई यह नई कंपनियां

कुल 36 कंपनियां ऐसी थीं, जिन्होंने पहली बार इस कैंपस प्लेसमेंट में भाग लिया| इन कंपनियों में अमेजन, बीएनपी पारिबस, डॉ. रेड्डी लैब, एवरेस्ट ग्रुप, फ्लिपकार्ट, गूगल, जेएसडब्लू ग्रुप, कोटक महिंद्रा बैंक, लोढा समूह, मैरिको, पीएंडजी, रिविहो, शैल आदि प्रमुख थी| कुल 237 छात्रों ने प्रबंधन में, 60 ने एचआर में और 45 ने अंतरराष्ट्रीय प्रंबंधन में परस्नातक का कोर्स पास किया है। सभी कोर्स में छात्रों को औसतन 20 लाख की सैलरी मिली है।

Saturday, January 12, 2019

ये है दुनिया के 5 सबसे ज्यादा डाउनलोड किये गए Web Browser

दोस्तों, आज के समय में हम जब भी इंटरनेट चलाने के लिए गूगल को ओपन करते हैं तो वह किसी न किसी वेब ब्राउज़र में ही हम ओपन करते हैं| वैसे अगर हम किसी लैपटॉप या कंप्यूटर में इंटरनेट चलाते हैं तो उसमे मुझे लगता है कि सबसे पहले गूगल क्रोम का ही चुनाव करते हैं लेकिन अगर हमे स्मार्टफोन में इंटरनेट चलाने की जरुरत पड़ती है तो हम सबसे पहले UC Browser का चुनाव करते हैं| खैर, आज हम दुनिया के 5 सबसे ज्यादा डाउनलोड किये गए वेब ब्राउज़र के बारे में बताने वाले हैं, वैसे आप किस ब्राउज़र इस उपयोग करते हैं कमेंट कर जवाब जरुर दें|

1.Google Chrome :- विश्व की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी गूगल द्वारा डिवेलप किए गए इस क्रोम ब्राउजर को प्ले स्टोर पर 1 बिलियन से अधिक डाउनलोड मिले हैं और इस ब्राउजर को 4.3 स्टार रेटिंग भी दी गई है| इस ब्राउज़र को स्मार्टफोन और कंप्यूटर दोनों डिवाइस में सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है| लेकिन यह ब्राउज़र किसी भी बड़ी फाइल को डाउनलोड करने के लिए नहीं है|

2.UC Browser :- चीनी कंपनी अलीबाबा के द्वारा डेवलप किए गए यूसी ब्राउजर दुनिया भर के स्मार्टफोन में मिल जाएगा| इसे लोगो द्वारा काफी पसंद किया जाता है और यूसी ब्राउजर को सबसे ज्यादा उपयोग डाउनलोड करने के लिए करते हैं और यह प्ले स्टोर पर 500 मिलियन से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है| यूसी ब्राउजर को 4.5 स्टार रेटिंग भी मिली है|

3.Mozilla Firefox :- मोज़िला फायरफॉक्स मोज़िला फाउंडर द्वारा डेवलप किया गया है और इसे प्ले स्टोर पर 100 मिलियन से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है और इस वेब ब्राउज़र को 4.4 स्टार रेटिंग मिला है| इसका उपयोग ज्यादातर कंप्यूटर में किया जाता है|

4.Opera Mini Browser :- ओपेरा मिनी ब्राउज़र बहुत ही चर्चित ब्राउज़र है और ओपेरा सॉफ्टवेयर द्वारा डिवेलप भी किया गया है| इस ब्राउजर को प्ले स्टोर पर 100 मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया है और इसे 4.5 स्टार रेटिंग भी दी गई है|

5.Dolphin Browser :- डॉल्फिन ब्राउजर मोजूद समय में प्ले स्टोर पर सबसे पसंदीदा ब्राउज़र भी बनता जा रहा है और प्ले स्टोर पर यह 50 मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया गया है| 4.5 रेटिंग के साथ यह ब्राउज़र प्ले स्टोर पर उपलब्ध है|

Saturday, January 5, 2019

Google ने साल 2018 में इन 6 ऐप्स और टेक्नोलॉजी को कहा अलविदा !


दोस्तों, साल 2018 ख़त्म हो गया है और हम अब 2019 में जी रहे हैं| ऐसे में पुराने साल यानि 2018 टेक्नोलॉजी के मामले में काफी आगे रहा है| इसमें सबसे अहम् स्मार्टफोन है, जो हर व्यक्ति के हाथों में सोभा दे रहा है| ऐसे में कई ऐसी चीजें भी हैं, जिसे पुराने साल में बंद कर दिया गया| दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन Goolge का हर एक प्रोडक्ट सबसे बेस्ट रहा है| वह पेमेंट करने के लिए GooglePay App हो या Duo जैसी विडियो कालिंग मोबाइल एप्लीकेशन, इसके बावजूद साल 2018 में गूगल ने अपने कई ऐसे मोबाइल ऐप्स को बंद कर दिया है चलिए बंद किये हुए मोबाइल ऐप्स पर नज़र डालते हैं|

1.Google Inbox :- इस ऐप ने अपनी इस सर्विस को बंद करने की घोषणा की थी| इसे 2014 में लॉन्च किया गया था औए इसकी सर्विस को मार्च 2019 में बंद कर दिया जाएगा| हालांकि, इस सर्विस को बंद करने की वजह क्या है यह गूगल ने नहीं बताई है| इस सर्विस का मुख्य फोकस स्मार्टर इमेल मैनेजमेंट एक्सपीरियंस था| इसमें बंडल ग्रुपिंग रिसिपेंट्स, स्टेटमेंट्स और मैसेज से संबंधित फीचर्स दिए गए हैं| इसके अलावा इसमें इमेल स्नूजिंग, फॉलो-अप समेत कई फीचर्स मौजूद हैं|

2.Google Allo :- गूगल इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप Allo को बंद कर रहा है| इसे 2016 में लॉन्च किया गया था और मार्च 2019 में पूरी तरह बंद कर दिया जाएगा| इसका एक बड़ा कारण एंड्रॉइड मैसेज पर केंद्रित करना है| गूगल एंड्रॉइड यूजर्स के एसएमएस अनुभव को और बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है|

3.Google Spaces :- Google ने अपनी ग्रुप मैसेजिंग ऐप Spaces को बंद कर दिया है| इसे 2016 में लॉन्च किया गया था| इसे एक छोटे ग्रुप फोरम के तौर पर पेश किया गया था|
4.Google Plus :- अक्टूबर महीने में Google ने अपनी इस सर्विस को बंद करने की घोषणा की थी| दरअसल, Google+ में एक बग सामने आया है जिसके चलते करीब 5.2 करोड़ का पर्सनल डाटा प्रभावित हुआ है| आपको बता दें कि Google+ को अगस्त 2019 में बंद किया जाना था लेकिन अब इसे अप्रैल 2019 में ही शट डाउन कर दिया जाएगा|

5.Google App :- कंपनी ने 2017 में घोषणा की थी कि वो Chrome web store से विंडोज, मैक और लिनक्स वर्जन के लिए ऐप सेक्शन को हटा देगा| इसे इस वर्ष की पहली तिमाही में हटा दिया गया है| कंपनी ने सभी Chrome app डेवलपर्स को मेल कर बताया था कि पहले से इंस्टॉल्ड की गई ऐप्स पहले जैसे ही काम करेंगे|

6.Google Tango :- Google ने अपने Tango प्रोजेक्ट को 2018 में बंद कर दिया है| इसे स्मार्टफोन कैमरा को बेहतर करने के लिए पेश किया गया था|

Saturday, December 29, 2018

यह 5 बेस्ट मोबाइल एप्स आपको अपने स्मार्टफोन में जरुर रखना चाहिए, अभी जानें


दोस्तों, जिस प्रकार से भारत में स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है उससे कही ज्यादा स्मार्टफोन ऐप लॉन्च किये जा रहे हैं| ऐसे में स्मार्टफोन यूजर्स कंफ्यूजन में रहते हैं कि उसके लिए कौन सा मोबाइल ऐप बेस्ट रहेगा| इसलिए आज हम आपको 5 ऐसे मोबाइल एंड्राइड एप्स के बारे में बताने वाले हैं, जिसे आपको अपने मोबाइल में जरुर इनस्टॉल करके रखना चाहिए|

Google Maps :- इस साल Google ने अपनी Maps ऐप में कई नए फीचर को जोड़ा है| इनकी मदद से आपको एक जगह से दूसरी जगह जाने में मदद मिलेगी साथ ही आप अपने आस-पास के रेस्त्रां जैसे जगहों को भी खोज पाएंगे| इसके साथ ही अपने पहुंचने का अनुमानित समय भी अपने दोस्तों या परिवार के साथ शेयर कर सकते हैं|

NETFLIX :- Netflix पर आप ओरिजनल कंटेंट को देख सकते हैं| यहां कई ऐसे सीजन्स और मूवीज हैं, जो आपको सिर्फ Netflix पर ही मिलेंगी| यह ऐप आज करीब हर दूसरे यूजर के फोन में मौजूद है| बता दें कि इसके लिए आपको पैसे चुकाना पड़ता है|

DARK SKY :- वैसे तो कई मौसम बताने वाली ऐप्स मौजूद हैं| लेकिन एक थर्ड पार्टी ऐप ऐसी भी है जो इन ऐप्स से बेहतर काम करती है| Dark Sky मौसम का हाल बताती है| आपको बता दें कि इसके लिए भी आपको पैसे चुकाना पड़ता है|
FLIPBOARD :- अगर आपको पढ़ने का शौक है तो यह ऐप आपके फोन में चाहिए| यह आपको आपके आस-पास और दुनिया में क्या हो रहा है इसकी जानकारी उपलब्ध कराएगी| इसमें कई डिजिटल मैगजीन भी मौजूद होती हैं|

1PASSWORD :- आज के समय में जितनी भी हैकिंग और ऑनलाइन फ्रॉड हो रहा है इसके हिसाब से पासवर्ड का सुरक्षित होना बेहद आवश्यक है| यह ऐप आपको पासवर्ड को मैनेज करने में मदद करेगी साथ ही यह ऐप बताएगी कि हर आईडी का एक ही पासवर्ड रखना असुरक्षित है| यह आपकी बेहतर और सुरक्षित पासवर्ड बनाने में भी मदद करेगी|

Tuesday, December 25, 2018

आपके ब्राउज़र में मौजूद Cookies कर सकती है आपके Privacy को प्रभावित, ऐसे करें डिलीट


Cookies एक छोटी टेक्सट फाइल होती हैं जो वेब ब्राउजर द्वारा लिखी जाती हैं| इसमें किसी एक साइट से हुए आपके इंटरेक्शन की जानकारी दी गई होती है| इसमें आपके लॉगइन का यूजरनेम या आपने रिटेल वेबसाइट से क्या खरीदा है इसकी जानकारी होती है| यह आपकी प्राइवेसी को प्रभावित कर सकती है साथ ही आपके सिस्टम में स्पेस भी घेरती है| ऐसे में इसे सिस्टम से डिलीट करना ही सबसे आसान रास्ता है| आज हम आपको सिस्टम Cookies को कैसे डिलीट किया जाए इसकी जानकारी दे रहे हैं चलिए जानते हैं| इस मोबाइल से कमा सकते हैं 200 रुपया रोज़
Google Chrome से इस तरह डिलीट करें Cookies

इसके लिए सबसे पहले आपको Chrome में सेटिंग्स पर क्लिक करें| अब जो पेज ओपन होगा उसमें नीचे की तरफ Advanced पर क्लिक कर दें| इसके बाद Privacy and security के विकल्प के अंतर्गत दिए गए Clear browsing data विकल्प पर क्लिक कर दें| यहां से आप ब्राउजिंग डाटा, cookies और कैच इमेज और फाइल को डिलीट कर सकते हैं| आप इनमें से चुनाव भी कर सकते हैं| सेलेक्ट करने के बाद Clear data पर क्लिक कर दें|

नोट :- cookies को मैनेज करने के लिए आपको Privacy and security में वापस जाना होगा| इसके बाद Content settings पर क्लिक कर Cookies पर क्लिक करें| यहां आपको थर्ड पार्टी cookies को ब्लॉक करने का विकल्प मिलेगा|
Mozilla FireFox से इस तरह डिलीट करें Cookies

इसमें सबसे पहले आपको ऊपर की तरफ दायीं ओर दिए गए तीन डॉट यानी मेन्यू पर में जाकर Options पर क्लिक करना है| इसके बाद Privacy and security पर क्लिक करें| यहां आपको Cookies and site data का विकल्प मिलेगा| अब Clear Data पर क्लिक कर दें| Cookies and Site Data पर टिक करने के बाद ही Clear पर क्लिक करें|


अलावा Manage data लिंक पर क्लिक करें| अब जो विंडो ओपन होगी उसमें आपकी डिवाइस में मौजूद cookies दी गई होंगी| आप Remove Selected या Remove All में से किसी पर भी क्लिक कर सकते हैं|
Safari से इस तरह डिलीट करें Cookies

Safari यूजर को आसानी से सेटिंग्स बदलने की सुविधा देता है| आपको बता दें कि Windows वर्जन से Safari को खत्म कर दिया गया है| ऐसे में अब फोकस MacOS वर्जन पर है| इसके लिए आपको सबसे पहले ऊपर की तरफ दायीं ओर दिए गए तीन डॉट यानी मेन्यू पर क्लिक करना होगा| इसके बाद एक ही बार में सभी कुछ डिलीट करने के लिए Clear History पर क्लिक कर दें| अगर आप डिलीट की जाने वाली चीजों पर कंट्रोल रखना चाहते हैं तो Preferences का चुनाव कर सकते हैं|


नोट:- Privacy सेक्शन में जाकर Block all cookies पर क्लिक कर दें| वहीं, Details पर क्लिक कर आप यह देख सकते हैं कि आपके ब्राउजर में कौन-कौन सी cookie स्टोर्ड हैं|

Friday, December 21, 2018

ATTENTION - Google Map के जरिये आपके Bank Account से उड़ाए जा सकते हैं लाखों रूपये

Wednesday, December 19, 2018

Google Map बताएगा ऑटो रिक्शा का भाड़ा, ऐसे करेगा काम


अगर आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं तो आपके लिए यह पोस्ट खुशियाँ लेकर आया है| बता दें कि गूगल ने क्रिसमस के मौके पर आपको एक खास तोहफा दिया है| अब आप गूगल मैप के जरिये ही जान सकते हैं कि आपके रिक्शा का भाड़ा कितना है| इसके लिए गूगल मैप्स में 'पब्लिक ट्रांसपोर्ट' मोड फीचर लांच किया गया है|

इसे भी पढ़ें : लेनोवो ने लॉन्च किया स्नैपड्रैगन 855 और 12 जीबी रैम वाला पहला स्मार्टफोन

इस फीचर के जरिये आप यह पता लगा सकते हैं कि आप जहां जाना चाहते हैं वहां जाने का कौन सा रास्ता आपके लिए बेहतर होगा और उसका किराया कितना लगेगा| इस फीचर का फायदा आप गूगल के' कैब' मोड से भी लगा सकते हैं| गूगल के मुताबिक यह किराया दिल्ली पुलिस और कुछ विशेषज्ञों द्वारा बताए गए आंकड़ों पर आधारित होगा| इस फीचर का लाभ उठाने के लिए आप गूगल मैप को अपडेट कर लें|

लड़के चाह कर भी नहीं कर सकते हैं अपने प्यार का इज़हार, यह एप सिर्फ लडकियों के लिए है खास

यह फीचर को इसलिए लाया गया है कि जब कोई अंजन व्यक्ति कही दुसरे जगह जाता है तो ओटो रिक्सा वाले उनसे ज्यादा किराया लेते हैं और लम्बे रस्ते से ले जाया करते हैं| ऐसे में इस फीचर की मदद से ओटो रिक्सा का अनुमानित इराए की जानकारी मिल सकेगी| हालाँकि, अभी तक यह कन्फर्म नहीं है कि यह फीचर का लाभ दिल्ली के अलावा किन-किन शहरों के लिए होगा|

Friday, December 14, 2018

Google ने लॉन्च किया Shopping वेबसाइट, Amazaon और Flipcart को देगा टक्कर


दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी गूगल ने भारत में अपना ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट Google Shopping लॉन्च किया है| गूगल को ई-कॉमर्स सेक्टर में आते ही बड़ी फेमस कंपनी Amazon, Flipcart और PayTm Mall को कड़ी टक्कर मिलेगी| Google के वाइस प्रेसिडेंट (प्रोडक्ट मैनेजमेंट) सुरोजीत चटर्जी के बयान के अनुसार, ''Google के माध्यम से हम दुनिया में सूचनाओं को सभी के लिए एक्सेसबल और उपयोगी बनाते हैं| इसलिए हम इस नए शॉपिंग सर्च एक्सपीरियंस को भारतीय ग्राहकों के लिए उतार रहे हैं| इसके जरिए ग्राहक आसानी से किसी भी प्रोडक्ट पर मिल रहे ऑफर्स को शॉर्ट आउट कर सकेंगे और अपने लिए सही प्रोडक्ट का चुनाव कर सकेंगे|"

Google Shopping की मदद से ग्राहक मल्टीपल ई-कॉमर्स साइट्स पर मिल रहे बेस्ट ऑफर्स को एक साथ देख सकेंगे, जिसमें रिटेलर्स भी शामिल हैं| Google Shopping यूजर्स को सरल और यूजर-फ्रेंडली शॉपिंग एक्सपीरियंस प्रदान करता है| Google ने इस प्लेटफार्म पर डेडिकेटेड सेक्शन्स जोड़ें हैं जिसमें प्राइस ड्रॉप्स, टॉप डील्स और Google पर मौजूट टॉप डील्स को एक साथ देखा जा सकता है| इसके अलावा मोबाइल फोन, स्पीकर्स, वुमन क्लादिंग, बुक्स, वॉचेज, होम डेकॉर, पर्सनल केयर, अप्लांयसेज आदि के लिए कैटेगरी शामिल हैं|


इस प्लेटफार्म पर आपको आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पावर्ड शॉपिंग का एक्सपीरियंस मिलेगा| Google Lens की मदद से आप किसी भी प्रोडक्ट को स्कैन करके यहां पर सर्च कर सकेंगे| इसके लिए आपको स्मार्टफोन का कैमरा इस्तेमाल करना होगा| बात करें रिटेलर्स की तो कोई भी यहां अपने आप को रजिस्टर कर सकता है| इसके लिए गूगल के मर्चेंट सेंटर का इस्तेमाल करना होगा| मर्चेंट सेंटर अंग्रेजी के अलावा हिंदी भाषा को भी सपोर्ट करता है|

Saturday, December 8, 2018

जल्द बंद कर देगा Google अपना पॉपुलर एप, जानिए क्यों

दोस्तों, गूगल अपना पॉपुलर एप गूगल Allo को जल्द बंद करने जा रहा है| बता दें कि इस गूगल Allo अप्रैल से ही अपना निवेश नरना बंद कर दिया था| गूगल इन एप्स को बंद करने के बाद एंड्राइड मैसेज एप पर ध्यान देना चाहता है| वैसे फ़िलहाल एंड्राइड मैसेंजर में डेस्कटॉप का सपोर्ट दिया गया है|

ऐलो ऐप में निवेश बंद करने के बाद इस पर काम करने वाले लोगों को अन्य प्रोजेक्ट्स में ट्रांसफर कर दिया था और साथ ही ऐलो प्रोजेक्ट के कुछ लोगों को एंड्रॉयड मैसेज पर भी शिफ्ट किया गया है| इससे पहले गूगल ने हैंगआउट्स ऐप को 2020 तक बंद करने का ऐलान किया था|

अपने ब्लॉग ने गूगल ने लिखा है कि उनके मैसेजेज, मैसेजिंग एप को तकरीबन 175 मिलियन यूजर्स इस्तेमाल कर रहे हैं| इस एप पर ग्रुप चैट के अलावा हाई-रेज फोटो भेजे जा सकते हैं| इसके अलावा इसमें स्मार्ट रिप्लाई, जीआईएफ और डेस्कटॉप सपोर्ट भी दिया गया है साथ ही कंपनी नए फीचर शामिल करने योजना बना रही है|

Google Allo क्यों बंद हुआ ?
इसकी सबसे पहली बात यह है कि गूगल ऐलो में वीडियो कॉलिंग का फीचर नहीं है और साथ ही इस ऐप की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े किए गए हैं, क्योंकि यह एंड टू एंड इनक्रिप्टेड ऐप नहीं है| इसके जरिए आप कोई फाइल भी किसी को शेयर नहीं कर सकते हैं ऐसे में इस एप का उपयोग लोग क्यों करे क्योंकि उनके सामने व्हात्सप्प इतना अच्छा आप्शन है|

Friday, December 7, 2018

गूगल ने डिलीट किया 22 खतरनाक वायरल वाला एप्स

दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी गूगल ने अपने प्ले स्टोर से करीब 22 सबसे खतरनाक एप्स को डिलीट कर दिया है| गूगल के मुताबिक, जिस एप्स को डिलीट किया गया है उसमे वायरस छुपा हुआ था और उस एप्स का उपयोग ऑनलाइन फ्रौड करने के लिए इस्तेमाल होता था| उन एप्स को करीब 20 लाख बार डाउनलोड किया गया था| गूगल को Sophos नाम की साइबर सिक्योरिटी कंपनी ने इन ऐप्स के बारे में जानकारी दी है|

Sophos ने अपने इन्वेस्टिगेशन में पाया कि ये ऐप्स Andr और Clickr ऐड नेटवर्क से जुड़ा हुआ है| इस सिक्योरिटी कंपनी ने अपनी इन्वेस्टिगेशन रिपोर्ट में लिखा कि ये सभी अच्छी तरह से ऑर्गेनाइज्ड किए हुए वायरस हैं जो यूजर्स को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं| इतना ही नहीं ये वायरस पूरा एंड्रॉइड इकोसिस्टम को तहस-नहस कर सकता है| इन ऐड नेटवर्क पर फेक क्लिक करके अच्छी-खासी रिवेन्यू जेनरेट करते हैं साथ ही फेक रिक्वेस्ट भेजते हैं|

Sophos ने अपने ब्लॉग में लिखा कि इन ऐप्स में ये वायरस होने की वजह से स्मार्टफोन यूजर्स की बैटरी ड्रेन होने लगती है| इसके अलावा डाटा की भी खपत करता है| जिसकी मुख्य वजह इन वायरस का बैकग्राउंड में कंपनी के सर्वर से कनेक्ट होना है और कनेक्टिविटी कायम करना है| Sophos ने इन सभी 22 खतरनाक ऐप्स की सूची जारी की है जिनमें ये खतरनाक वायरस की मौजूदगी है|
ये है वह 22 खतरनाक एप्स

Sparkle FlashLight, Snake Attack, Math Solver, ShapeSorter, Tak A Trip, Magnifeye, Join Up, Zombie Killer, Space Rocket, Neon Pong, Just Flashlight, Table Soccer, Cliff Diver, Box Stack, Jelly Slice, AK Blackjack, Color Tiles, Animal Match, Roulette Mania, HexaFall, HexaBlocks, and PairZap.

Tuesday, December 4, 2018

GOOGLE PLAY AWARDS 2018 : फेसबुक और व्हात्सप्प नहीं, बल्कि यह एप्लीकेशन है नंबर 1

दोस्तों, गूगल प्ले स्टोर पर पर लाखों एप्लीकेशन उपलब्ध हैं, जिसमें कुछ ही एप्लीकेशन टॉप पर पहुँचता है और अगर नंबर 1 बनने की बात आती है तो कोई एक ही एप्स बन पाता है| यह साल यानि 2018 ख़त्म होने वाला है और एंड्राइड फ़ोन में कौन सा एप्स ज्यादा इनस्टॉल हुआ और कौन सा सबसे कम इसका रिकॉर्ड गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध रहता है| गूगल ने प्ले स्टोर की तरफ GOOGLE PLAY AWARDS 2018 की लिस्ट जारी की गई है|

अगर आप यह सोच रहे होंगे कि सोशल मीडिया एप फेसबुक, व्हात्सप्प और इंस्टाग्राम जैसे एप्स नंबर 1 में शामिल होगा तो आप गलत हैं| क्योंकि इस साल गूगल प्ले स्टोर पर सबसे ज्यादा PUBG गेम को डाउनलोड किया गया है और लोगों ने इस गेम को अपने स्मार्टफोन में खुद खेला और आज भी बहुत ज्यादा मात्रा में डाउनलोड हो रहा है|

लेकिन अगर बेस्ट एप्स की बात करें तो वह कोई एप्स है क्योंकि हमने बेस्ट नंबर 1 गेम के बारे में बताया| बता दें कि गूगल प्ले स्टोर की सबसे बेस्ट गेम 'Drops: Learn 31 new languages' है, जिसे स्मार्टफोन यूजर्स ने खूब पसंद किया|

Tuesday, November 27, 2018

आ गया गूगल का नया फीचर Google Search App

Google मोबाइल वेब, ऐंड्रॉयड और आईओएस प्लैटफॉर्म के सर्च ऐप के लिए एक नया फीचर रोलआउट कर रहा है| इस नए फीचर के आने के बाद यूजर्स को किसी सवाल के जवाब में कई सारे लिंक मिलने की जगह एक डायरेक्ट रिजल्ट ही मिलेगा, यानी सीधे तौर पर कहें तो आपकी सर्च से जुड़ी जानकारी आपको एक लिंक के जरिए मिलेगी| कंपनी का इरादा ऐसा करके बेहतर यूजर एक्सपीरियंस देने का है|

गूगल के द्वारा यह कहा गया है कि जिन सवालों को लेकर हमें लगता है कि हम बिल्कुल सही है, उस दौरान हम यूजर द्वारा किसी कैलकुलेशन, यूनिट कनवर्ज़न या लोकल टाइम के लिए हम सिर्फ एक सिंगल रिजल्ट ही दिखाएंगे ताकि मोबाइल पर लोड टाइम बेहतर हो सके|

गूगल ने मार्च तक इस फीचर की टेस्टिंग की थी और अब यूजर्स को सवालों के सटीक जवाब देने के लिए इस फीचर को रिलीज किया जा रहा है| इस फीचर के द्वारा सुनिश्चित किया जाएगा कि यूजर्स को विज्ञापन न दिखें| रिपोर्ट के मुताबिक गूगल ने कहा है कि फरवरी में इस फीचर की टेस्टिंग के दौरान, हमने विज्ञापन हटाने पर काम किया और हम यूजर्स एक्सपीरियंस को और बेहतर बनाने पर काम कर रही है| हम यह सुनिश्चित करेंगे कि यूजर्स को वही जवाब मिलें, जिसे वे ढूंढना चाहते हैं| लेकिन फिर भी हम दूसरे रिजल्ट्स उपलब्ध करा पाएंगे|

Wednesday, November 14, 2018

इस मोड पर रखने से आपके स्मार्टफोन की बैटरी चलेगी ज्यादा

गूगल ने आखिरकार इस बात को पुख्ता कर दिया है कि, उनका डार्क मोड एंड्रॉइड फोन कम पावर लेता है और बैटरी बचाता है| इस हफ्ते हुई एंड्रॉइड समिट के दौरान गूगल ने बताया कि कैसे हमारे स्मार्टफोन बैटरी खर्च करते हैं| उन्होनें सभी डेवलपर्स को बताया कि वे अपनी ऐप में क्या कर सकते हैं जिससे उनका ऐप बैटरी का कम से कम इस्तेमाल करें|

स्लैश गियर की रिपोर्ट के मुताबिक, ये बात सिर्फ ऐप्स तक ही सीमित नहीं है. बैटरी खत्म होने का सबसे बड़ा कारण है- स्क्रीन ब्राइटनेस! और सिर्फ ब्राइटनेस नहीं, बल्की स्क्रीन का रंग भी बैट्री लाइफ के लिए जिम्मेदार है|

डार्क मोड OS की कलर थीम और ऐप्स के रंगो को काला कर देता है| अगर हम यूट्यूब को देखें तो उनकी ऐप आमतौर पर सफेद रंग का इस्तेमाल करती है| एक प्रेजेंटेशन में गूगल ने दिखाया कि यूट्यूब में डार्क मोड के इस्तेमाल से अब बैटरी का इस्तेमाल 43 प्रतिशत कम कर रहा है|

गूगल ने 'मटेरियल डिजाइन' की शुरुआत की, तबसे उन्होंने सफेद रंग के इस्तेमाल पर काफी जोर दिया है और डेवलपर्स को भी सफेद रंग को इस्तेमाल करने के लिए भी कहा है|

Tuesday, November 13, 2018

Google Duo पर आपको मिलेगा 9,000 तक का कैश रिवार्ड्स, अभी करें यह काम

Google Duo ने इस साल सितंबर महीने में रिवॉर्ड प्रोग्राम शुरू किया था| इस प्रोग्राम को सबसे पहले फिलीपीन्स में पेश किया गया था| अब इसकी शुरुआत भारत में भी कर दी गई है| खबरों के मुताबिक, Google Duo के द्वारा यूजर्स कैश रिवॉर्ड्स जीत सकते हैं| इन रिवॉर्ड्स को सीधे Google Pay में जोड़ दिया जाएगा| गूगल का कहना है कि अगर Google Duo को कोई यूजर अपने दोस्त या परिवार वालों को रेफर करता है और वो यूजर इस इनवाइट लिंक पर जाकर ऐप डाउनलोड कर पहली कॉल करते हैं तो दोनों यूजर्स को कैश रिवॉर्ड्स दिए जाएंगे| बता दें कि यह प्रोग्राम फिलहाल एंड्रॉइड यूजर्स के लिए ही उपलब्ध है|
कैसे जीत पाएंगे कैश रिवॉर्ड्स?
Google Duo के जरिए कैश रिवॉर्ड्स जीतने के लिए यूजर्स के पास फोन नंबर और बैंक अकाउंट होना आवश्यक है| यूजर को अपना बैंक अकाउंट UPI आधारित Google Pay से लिंक करना होगा| ऐसा करने पर ही यूजर को कैश रिवॉर्ड्स का लाभ मिलेगा| आपको Google Duo किसी ऐसे व्यक्ति को रेफर करना होगा जिसने कभी भी Google Duo पर साइनअप न किया हो| आपके दिए गए इनवाइट लिंक पर क्लिक कर दूसरा यूजर ऐप को डाउनलोड कर पहली कॉल करने के बाद दोनों यूजर्स को कैश रिवॉर्ड्स दे दिए जाएंगे|

अगर आप किसी नए यूजर को इनवाइट लिंक भेजना चाहते हैं तो आपके ऐप में जाकर Invite friends पर टैप कर Share invite पर जाना होगा| आपको बता दें कि Google Duo में भी कैश रिवॉर्ड्स को रिडीम किया जा सकता है| इसके लिए More पर टैप कर Redeem rewards पर क्लिक करना होगा| ऐसा करने से कैश आपके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाएगा|