Showing posts with label google. Show all posts
Showing posts with label google. Show all posts

Wednesday, July 24, 2019

सड़कों पर घूम कर यूजर्स के फेस डेटा को कलेक्ट कर रही गूगल, बदले में देते हैं 340 रु. का गिफ्ट कार्ड

गूगल अपनी पिक्सल सीरीज के अगले डिवाइस Pixel 4 में अपने नेक्स्ट जनरेशन फेशियल रिकॉग्नाइजेशन टेक्नोलॉजी टेस्ट कर रहा है| न्यूयॉर्क की सड़कों पर गूगल के कर्मचारी यूजर्स से उनके फेस डेटा कलेक्ट कर रही है और इसके बदले में गूगल उन्हें 340 रुपए का गिफ्ट कार्ड दे रही है| कंपनी न्यूयॉर्क के अलावा कई शहरों में इसी तरह से डेटा कलेक्ट कर रही है| रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी यह पिक्सल 4 के फेस अनलॉकिंग फीचर को और बेहतर बनाने के लिए कर रही है|

रिपोर्ट के मुताबिक गूगल के कर्मचारियों की कई टीमों को लोगों के फेस डेटा देने के लिए अनुरोध करते देखा गया| कंपनी ने यह नया तरीका अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन गूगल पिक्सल 4 के फेस अनलॉक फीचर को और बेहतर बनाने के लिए निकाला है| गूगल कर्मचारी सड़कों पर घूम रहे लोगों तक पहुंच कर सबसे पहले उनकी परमिशन लेते हैं, जिसमें उन्हें कहा जाता है वे यह अपने नेक्स्ट जनरेशन फेशियल अनलॉकिंग फीचर को बेहतर बनाने के लिए आपका फेस डाटा चाहिए| यूजर्स के हां कहने पर एक बड़े से बॉक्स में छिपे फोन से उनका फोटो लिया जाता है| रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि इस बॉक्स में पिक्सल 4 स्मार्टफोन है|

यूजर की परमिशन मिलने पर छिपे हुए फोन के सेल्फी मोड से अलग-अलग एंगल में फेस डेटा कलेक्ट करते हैं| इसे काम को करने में लगभग 5 मिनट का समय लग जाता है| इसके बदले में गूगल के कर्मचारी यूजर को अमेजन या स्टारबक्स का 340 रुपए का गिफ्ट कार्ड देते हैं| गूगल के एक कर्मचारी ने बताया कि कई शहरों में इसी तरह के डेटा कलेक्शन का काम किया जा रहा है| इसके बदले में यूजर के फार्म पर साइन भी कराया जाता है| इसका मतलब यह है कि अब इस फेस डेटा पर अब गूगल का अधिकार है|

Saturday, July 20, 2019

पोर्न फिल्में देखने वालों सावधान ! गूगल और फेसबुक चुपके से आप पर रखता है नज़र

अगर आप पोर्न फिल्में देखने के शौक़ीन हैं तो आपको यह आदत बदलनी होगी| वैसे अगर आप 'इंकॉग्निटो मोड' का भी इस्तेमाल कर पोर्नोग्राफी फिल्में देखते हैं और आपको लगता है कि ऐसे में किसी को पता नहीं चलेगा तो आप शायद गलत सोच रहे हैं| बता दें कि गूगल, फेसबुक और ओरेकल क्लाउड भी आप पर चुपके से नजर बनाए रखते हैं| लैपटॉप या स्मार्टफोन पर 'इंकॉग्निटो मोड' पर स्विच करने पर भी आपके जरिए देखी जाने वाली पोर्न पर गुप्त रूप से नजर रखी जाती है|

माइक्रोसॉफ्ट, कानेर्गी मेलन विश्वविद्यालय और पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के एक नए संयुक्त अध्ययन में यह बात सामने आई है| जांच में पता चला कि 93 प्रतिशत वेब पेज ऐसे हैं, जो यूजर्स के डेटा को थर्ड पार्टी संगठनों के लिए ट्रैक और लीक करते हैं| इसके लिए 'वेबएक्सरे' नामक एक उपकरण का उपयोग करके 22,484 सेक्स वेबसाइटों को चेक किया| नमूने में यूजर्स को ट्रैक करने वाली 230 विभिन्न कंपनियों और सेवाओं की पहचान करने वाले शोधकर्ताओं ने कहा कि इन साइटों पर हो रही ट्रैकिंग कुछ प्रमुख कंपनियों के जरिए केंद्रित है|


गैर-पोर्नोग्राफी-विशिष्ट सेवाओं में से गूगल 74 प्रतिशत साइटों को ट्रैक करता है, ओरेकल 24 प्रतिशत और फेसबुक 10 प्रतशित साइटों को ट्रैक करता है| पोर्नोग्राफी-विशिष्ट ट्रैकरों में ईएक्सओ क्लिक (40 प्रतिशत), जूसीएड (11 प्रतिशत) और इरो एडवरटाइजिंग (9 प्रतिशत) आदि शामिल है| रिपोर्ट में बताया गया कि गैर-पोर्नोग्राफी की टॉप 10 कंपनियां अमेरिका में हैं, जबकि पोर्नोग्राफी-विशिष्ट की अधिकतर कंपनियां यूरोप में हैं|

शोधकर्ताओं ने कहा कि 'इंकॉग्निटो मोड' केवल यह सुनिश्चित करता है कि उसकी ब्राउजिंग हिस्ट्री में सेव नही न हो| लेकिन उससे संबंधित ऑनलाइन कामों को थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स देख और रिकॉर्ड कर सकते हैं| रिपोर्ट के मुताबिक ये थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स उन साइटों के यूआरएल की मदद से उसकी यौन इच्छाओं का भी अनुमान लगा सकते हैं||

Wednesday, June 5, 2019

गूगल मैप का यह 3 लेटेस्ट अपडेट आपके बहुत आएगा काम, मिलेगा रिक्शा स्टैंड की जानकारी

सर्च इंजन कंपनी गूगल ने अपने हो प्लेटफार्म गूगल मैप में तिन नए अपडेट जारी किया है, जो गूगल मैप यूजर्स के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा| बता दें कि इस नए फीचर में बस से यात्रा करने का औसत समय, ट्रेन का लाइव स्टेटस और नजदीकी ऑटो रिक्शा स्टैंड के बारे में सटीक जानकारी यूजर्स को देगा| वैसे फिलहाल ये सुविधा भारत के 10 बड़े शहरों बेंगलुरू, चेन्नई, कोयंबटूर, दिल्ली, हैदराबाद, लखनऊ, मुंबई, मैसूर, पुणे और सूरत में ही लागू है| चलिए अब इन तीनों नए अपडेट के बारे में जानते हैं|
रियल टाइम बस ट्रैवल इंफॉर्मेशन

गूगल मैप में जुड़े इस नए फीचर से यूजर यह पता लगा सकते हैं कि पब्लिक बस से यात्रा करने के दौरान अपने स्थान तक पहुंचने में औसत कितना समय लगेगा| ऐप इसके लिए रास्ते में मौजूद ट्रैफिक स्टेट्स को ट्रैक करेगा| देर होने कि स्थिति में यूजर को रेड टेक्स्ट में अलर्ट मिलेगा, जो यह बताएगा कि रास्ते में ट्रैफिक होने से वास्तविक समय से कितना समय ज्यादा लगेगा| अगर कोई देर नहीं लगेगी तो यूजर को ग्रीन टेक्स्ट में अलर्ट करेगा|
मिक्स्ड मोड नेविगेशन विथ ऑटो रिक्शा रिकमन्डेशन

यह फीचर उन लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जो सफर के दौरान रोजाना बस से ऑटो या मेट्रो से ऑटो में स्विच करते हैं| यह यूजर को बताएगा कि वे ऑटो रिक्शा कहां से ले सकते हैं या मेट्रो, बस और लोकल ट्रेन से उतरने के बाद कौन सा स्टेशन या स्टॉप ऑटो रिक्शा लेने के लिए सही रहेगा| गूगल मैप में यह भी पता चलेगा कि एक जगह से दूसरी जगह तक जाने में ऑटो रिक्शा का कितना किराया और यात्रा में कितना समय लगेगा| मिक्स्ड मोड नेविगेशन की सुविधा शुरुआती तौर पर सिर्फ बेंगलुरु और दिल्ली के यूजर्स को मिलेगी, जिसके बाद इसे अन्य शहरों तक पहुंचाया जाएगा|
लाइव ट्रेन स्टेटस

खासतौर पर भारत के लिए बनाए गए इन फीचर्स में ट्रेन का लाइव स्टेटस देखा जा सकेगा और यह भी पता लगाया जा सकेगा कि वह अपने वास्तविक समय से कितनी लेट है| कंपनी के अनुसार इसे 'व्हेयर इज माय ट्रेन' के साथ मिलकर डेवलप किया गया है, जिसका अधिग्रहण गूगल द्वारा पिछले साल किया गया था|

Monday, June 3, 2019

गूगल के सर्वर से ऐसे डिलीट करें सर्च किये गए डाटा

दोस्तों, आज के समय में हम हमेशा ऑनलाइन इंटरनेट से जुड़े हुए रहते हैं और हम इंटरनेट में गूगल अपनी मर्जी के अनुसार सर्च करते हैं| लेकिन एक बात का हमेशा डर रहता है कि कही आप जिस भी चीज को सर्च कर रहे हैं वह कोई देख तो नहीं रहा है| वैसे कोई देखे या न देखे गूगल को यह पता हो जाता है कि आप क्या सर्च कर रहे हैं और वह डाटा आपके ब्राउज़र में ही सेव हो जाता है|

टेक विडियो देखने के लिए 'Tricky Onkar' Youtube चैनल को सब्सक्राइब करें|

आप जो कुछ भी गूगल पर या ऐप्स पर सर्च करेंगे वह डाटा सेव हो जाता है| हाल ही में गूगल ने डेटा को तय समय सीमा के बाद डिलीट करने की सुविधा दी है| अगर आप नहीं चाहते कि आपका डेटा गूगल के सर्वर पर हमेशा रखा रहे तो इसे अब आसानी से डिलीट भी किया जा सकता है|
गूगल से कैसे डिलीट करें अपना डाटा



  • इसके लिए आप सबसे पहले गूगल अकाउंट पेज myaccount.google.com पर जाएं|
  • अब यहां लेफ्ट साइडबार पर 'डेटा एंड पर्सनलाइजेशन' पर क्लिक करें या प्राइवेसी एंड पर्सनलाइजेशन कार्ड पर 'मैनेज यॉर डेटा एंड पर्सनलाइजेशन' पर क्लिक करें|
  • एक्टिविटी कंट्रोल्स बॉक्स में 'वेब एंड ऐप एक्टिविटी' पर क्लिक करें|
  • अब आप फिर से 'मैनेज एक्टिविटी' पर क्लिक करें|
  • अब 'चूज टू डिलीट आटोमेटिक' पर क्लिक करें|
  • अब आपको तिन आप्शन दिखेगा, पहला मैन्युअल डिलीट, दूसरा 18 महीने का डिलीट और तीसरा 3 महीने का डिलीट का आप्शन दिखेगा, जिसे आप अपने हिसाब से सेलेक्ट कर सकते हैं|
  • मान लिया जाये आप तिन महीने की डाटा को डिलीट करना चाहते हैं तो उसपर क्लिक कर आगे बढ़ जाएँ
  • अब यहां आपको कन्फर्म का आप्शन दिखेगा तो आप कन्फर्म करके डिलीट आसानी से कर सकते हैं|

Saturday, March 2, 2019

ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन को 'Ok Google' बोल कर अनलॉक नहीं कर पाएंगे अनलॉक


अब आप अपने ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन को 'Ok Google' बोल कर अनलॉक नहीं कर पाएंगे| Google ने फैसला लिया है कि वह अपने गूगल ऐप से इस फीचर को हटा देगा| गूगल का मानना है कि इस फीचर को हटाने से गूगल ऐप पहले से ज्यादा सुरक्षित हो जाएगा| गूगल का वॉइस मैच अनलॉक फीचर अब केवल लॉक स्क्रीन पर असिस्टेंट इंटरफेस लॉन्च करने के ही काम आएगा| इससे पहले यूजर्स वॉइस मैच फीचर से यूजर्स अपने डिवाइस को लॉक अनलॉक भी कर सकते थे|
टेक विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|
Moto Z और Pixel XL में गूगल के नए अपडेट 9.27 के आने के साथ ही इस फीचर को रिमूव कर दिया गया है| रिपोर्ट के मुताबिक गूगल जल्द ही 9.31 अपडेट जारी करने वाला है और इसके साथ ही दूसरे डिवाइसेज पर से वॉइस अनलॉकिंग फीचर को हटा दिया जाएगा| पहले 'ओके गूगल' कमांड देने पर यह डिवाइस की स्क्रीन को उसी ऐप पर अनलॉक करता था जिस ऐप के लिए कमांड दिया गया था| हालांकि अब ऐसा नहीं होगा|
टेक विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|
गूगल द्वारा जो नया अपडेट आया है उसके मुताबिक अब यूजर्स को इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए पहले फोन को मैन्युअली अनलॉक करना होगा| फोन अनलॉक रहने पर यूजर्स वॉइस कमांड देकर फोन को ऑपरेट कर सकते हैं| गूगल ने Pixel 3 और Pixel 3XL स्मार्टफोन लॉन्च करने से पहले इस फीचर को हटाने का फैसला कर लिया था|